रासलीला

65 58

गोपियोंकी भक्तिको ‘आदर्श भक्ति’ की उपमा दी जाती है ।
मोहमायासे विरक्त गोपियोंकी व भगवान श्रीकृष्णकी रासलीला कितनी पवित्र होगी !
फिर भी कलियुगमें रासलीलाको संदेहकी दृष्टिसे देखा जाता है । इतना ही नहीं, भगवान व गोपियोंके बीच क्रीड़ा कुछ लोगोंको अधर्मयुक्त लगती है ।
इस ग्रंथमें रासलीलाके भावार्थ (गूढ़ार्थ), मधुराभक्तिका अर्थ, मर्म व फलश्रुति इत्यादि जानकारी दी गई है ।

Index and/or Sample Pages

In stock