Reduced price! कुम्भमेलोंमें कुछ साधुआेंका पाखण्ड View larger

कुम्भमेलोंमें कुछ साधुआेंका पाखण्ड

New product

Kumbhmelonme Kuch Sadhuonka Pakhand (Hindi)

More details

28 Items

Download

INR 72.00

-10%

INR 80.00

INR 72.00 per 1

Add to wishlist

Data sheet

Compilers :परात्पर गुरु डॉ. जयंत बाळाजी आठवलेे , पू. डॉ. चारुदत्त प्रभाकर पिंगळे
ISBN Number978-93-85575-24-2
Number Of Pages :८०

More info

साधुका अर्थ है त्याग, इस प्रकार साधुआेंका समाजमें परम्परागत परिचय होते हुए भी कुम्भक्षेत्रके कुछ तथाकथित साधुआेंके वर्तनसे लोभ, आसक्ति, लोकेषणा, द्वेष-ईर्ष्या एवं हठ का प्रदर्शन होता है । प्रस्तुत ग्रन्थमें ऐसे तथाकथित साधुआेंके, तथा सन्त उपाधिका अनादर करनेवाले सन्तोंके वर्तनोंका विवेचन किया गया है । इस पृष्ठभूमिपर वास्तविक साधु-सन्तोंसे क्या कार्य अपेक्षित है, यह बताकर कुम्भमेलोंमें आदर्श कार्य करनेवाले कुछ साधु-सन्तोंका परिचय भी इस ग्रन्थद्वारा करवाया गया है ।

20 other products in the same category: