Reduced price! विकार-निर्मूलन हेतु नामजप - २ View larger

विकार-निर्मूलन हेतु नामजप - २

New product

विकार-निर्मूलन हेतु नामजप - २

More details

1 Item

Download

Vikar-nirmulan2

अनुक्रमणिका एवं भूमिका पढें !

Download (131.29k)

INR 85.00

-INR 10.00

INR 95.00

INR 85.00 per 1

Add to wishlist

Data sheet

Compilers :परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले , पू. संदीप आळशी
Number Of Pages76
ISBN Number978-93-87508-03-3

More info

मनुष्यकी देहमें पंचतत्त्वोंमेंसे कोई तत्त्व असन्तुलित होनेपर देहमें विकार उत्पन्न होते हैं । यह असन्तुलन दूर करने हेतु अर्थात उससे उत्पन्न विकार दूर करने हेतु उस तत्त्वसे सम्बन्धित नामजपके साथ ही मुद्रा और न्यास भी उपयुक्त हैं । नामजपसहित मुद्रा और न्यास करनेसे उपचारोंका लाभ अधिक होता है । इस विषयमें भी विवेचन किया गया है ।

18 other products in the same category: