Reduced price! स्वभावदोष-निर्मूलन प्रक्रिया (भाग 2) स्वयंसूचनाओंद्वारा स्वभावदोष-निर्मूलन View larger

स्वसूचनाओंद्वारा स्वभावदोष निर्मूलन (उत्तम साधना एवं आनन्दमय जीवन हेतु उपयुक्त!)

New product

Swasuchanaondvara swabhavdosh nirmulan

More details

15 Items

Download

swasuchana_dosh_nirmulan

अनुक्रमाणिका एवं भूमिका पढें !

Download (198.14k)

INR 67

-INR 8

INR 75

INR 67 per 1

Add to wishlist

Data sheet

Compilers :परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले (अंतरराष्ट्रीय स्तरके सम्मोहन उपचार विशेषज्ञ)
Number Of Pages76
ISBN Number978-93-87508-82-8

More info

अपने स्वभावदोषोंका और ‘उन स्वभावदोषोंके कारण होनेवाली अयोग्य कृतियोंके समय योग्य कृति क्या करनी चाहिए’, इसका भान मनको होनेके लिए अथवा ‘स्वभावदोषों के कारण मनमें उभरी अयोग्य प्रतिक्रियाएं पुनः उत्पन्न न हों, इसके लिए योग्य दृष्टिकोण क्या रखना चाहिए’, यह मन समझ पाए इसके लिए स्वयंसूचनाएं देनी पडती हैं । ये स्वयंसूचनाएं कैसे बनाते हैं, मनको कैसे देते हैं, दिनभरमें कितनी बार स्वयंसूचना लेनी चाहिए आदिकी जानकारी इस ग्रंथमें दी है । यह एक वैज्ञानिक एवं अनुभवसिद्ध उपचारपद्धति है ।

5 other products in the same category: