परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजीके सर्वांगीण कार्यका संक्षिप्त परिचय

100 90

Also available in: English , Marathi

ज्ञानियोंके राजा । गुरु महाराज ॥ ऐसा जिनका वर्णन किया जा सकता है, वे हैं सनातन संस्थाके संस्थापक परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी ! आप धर्म, कला, भाषा, राष्ट्ररक्षा, धर्मजागृति आदि विषयोंपर विपुल ग्रन्थ लिखनेवाले ज्ञानगुरु हैं; शीघ्र ईश्‍वरप्राप्तिके लिए साधनाका सरल मार्ग गुरुकृपायोगकी रचना कर, साधकोंको कालानुरूप साधना सिखानेवाले मोक्षगुरु हैं और विश्‍वकल्याणके लिए सत्त्वगुणी लोगोंका ईश्‍वरीय राज्य (हिन्दू राष्ट्र, सनातन धर्म राज्य) अनिवार्य है, ऐसा उद्घोष सर्वप्रथम करनेवाले राष्ट्रगुरु हैं ।

Index and/or Sample Pages

In stock