राष्ट्र एवं धर्मरक्षाके उपाय

65 59

१० से १४ जून २०१२ की कालावधिमें रामनाथी, गोवामें ‘हिंदू जनजागृति समिति’की ओरसे प्रथम ‘अखिल भारतीय हिंदू अधिवेशन’ संपन्न हुआ । यह अधिवेशन ‘हिंदू राष्ट्रकी स्थापना’ हेतु बढा प्रथम ऐतिहासिक पग था । इस अधिवेशनमें निरंतर पांच दिनोंतक अनेक हिंदुत्वनिष्ठ मान्यवरोंने विविध राष्ट्रीय एवं धार्मिक समस्याओंका अभ्यासपूर्ण विवेचन किया । इस ऐतिहासिक अधिवेशनमें प्रस्तुत हिंदुत्वनिष्ठ मान्यवरोंके विचार हम तीन ग्रंथमालाके रूपमें प्रस्तुत कर रहे हैं ।
ग्रंथमालाके इस भागमें धर्माभिमानी वक्ताओंके ‘लव जिहाद’, ‘हिंदुओंका धर्मांतरण’, ‘मंदिरोंकी रक्षा’, ‘गोवंशकी रक्षा’ और ‘देवनदी गंगाकी रक्षा’, इन विषयोंपर व्यक्त तेजस्वी विचार इस ग्रंथमें संपादित स्वरूपमें दे रहे हैं । यह विचार हिंदुत्वके क्षेत्रमें कार्य करनेवाले प्रत्येकके लिए प्रेरणादायी होनेके साथ ही जन्महिंदुओंको कर्महिंदू बननेके लिए भी मार्गदर्शक हैं ।

Index and/or Sample Pages

In stock