वेद

95 85

Also available in: Marathi

प्राचीन ऋषि-मुनियोंने कठोर तपश्‍चर्या कर समग्र मानवजातिके लिए कल्याणकारी सिद्ध होनेवाले, मनोगत ईश्‍वर प्रतिपादित धर्मको अपने अतींद्रिय ज्ञानसे अनुभव किया और उसका वेद, उपनिषद्, दर्शन, स्मृति इत्यादि ग्रंथोंके रूपमें जतन किया ।
धर्मके विषयपर जो लेखन है, वह ब्रह्मसे संबंधित है । ब्रह्म अनादि-अनंत है, इस कारण ब्रह्मसे संबंधित लेखन भी अनंत काल टिकता है; इसलिए हमारे धर्मग्रंथ कालपर मात करनेवाले सिद्ध हुए हैं ।

Index and/or Sample Pages

In stock