कुंभपर्वकी महिमा

50 45

इस ग्रंथमें मुख्यरूपसे कुंभमेलेकी महिमा, कुंभक्षेत्रमें अपेक्षित आचरण एवं कुंभमेलेके मूल प्रयोजनके विषयमें विवेचन किया है ।
यह ग्रंथ पढकर समस्त हिंदू कुंभमेलेके महत्त्वको अध्यात्मशास्त्रीय दृष्टिकोणसे समझ लेें, इस श्रेष्ठ पर्वके निमित्त साधु-संतोंके नेतृत्वमें ‘हिंदू धर्मरक्षा एवं हिंदूसंगठन’के कार्यके लिए आगे बढें एवं यहांसे धर्मध्वजा संपूर्ण विश्वमें फहरानेकी प्रेरणा लेकर ही जाएं !

Index and/or Sample Pages

In stock