तीर्थक्षेत्र एवं तीर्थयात्रा का महत्त्व

95 85

Also available in: Marathi

तरति पापादिकं यस्मात्, अर्थात जो पापोंसे तारता है, उसे तीर्थ कहते हैं ।
वास्तवमें तीर्थक्षेत्र केवल पापोंसे नहीं तारते, अपितु सभीसे अर्थात (भवसागरसे भी) तारते हैं । इसलिए उनके महत्त्वका वर्णन युगों-युगोंसे हो रहा है ।
तीर्थक्षेत्र मानवजातिका उद्धार करनेवाले परमस्थान हैं । इसीलिए हिन्दू धर्म और संस्कृति में तीर्थक्षेत्र एवं तीर्थयात्रा का महत्त्वपूर्ण स्थान है ।

Index and/or Sample Pages

In stock