सकाम कर्म, निष्काम कर्म, कर्मफलत्याग एवं अकर्म कर्म

60 54

Also available in: Marathi
  • कर्मके चरण कौनसे हैं ?
  • कर्मबंधनरहित कर्म कैसे करें ?
  • निष्काम कर्म करनेका महत्त्व एवं लाभ क्या हैं ?
  • कर्म, फलकी अपेक्षासे रहित क्यों करना चाहिए ?
  • जन्मसे ही कोई धनी अथवा निर्धन क्यों होता है ?
  • निष्काम कर्म करनेसे आध्यात्मिक उन्नति कैसे साध्य होती है ?
  • सकाम कर्मसे मनुष्य कर्मबंधनमें क्यों फंसता है ?
  • नामजपसहित कर्म, ‘अकर्म कर्म’ कैसे होता है ?
  • कर्मफल कर्मके उद्देश्यपर क्यों निर्भर रहता है ?
  • मायांतर्गत निष्काम कर्म एवं अध्यात्मांतर्गत निष्काम कर्ममें क्या भेद हैं ?

ऐसे प्रश्नोंपर इस ग्रंथमें विवेचन किया है ।

Index and/or Sample Pages

In stock