स्वभावदोष (षड्रिपु)-निर्मूलनका महत्त्व एवं गुण-संवर्धन प्रक्रिया

120 108

जीवन के विविध क्षेत्रोंमें सफल होने के लिए आवश्यक ‘प्रभावी’ एवं ‘आदर्श’ व्यक्तित्व विकसित करने हेतु स्वभावदोष-निर्मूलन के साथ ही गुण-संवर्धन के लिए भी प्रयास करना आवश्यक है।
गुण-संवर्धन प्रक्रिया का महत्त्व, उससे होनेवाले लाभ, इस प्रक्रिया के विविध चरणोंमें किए जानेवाले प्रयत्न इत्यादि सूत्रोंके विषयमें विस्तृत जानकारी इस ग्रन्थ के ‘अध्याय २ – गुण-संवर्धन प्रक्रिया’में दी है।

In stock