बोधकथा

60 54

बालको, आप खेलकी पत्रिकाएं एवं जादूका घोडा, उडनेवाली परी जैसी कहानियां पढते हैं तथा टी.वी.पर कार्टून देखते हैं।
इससे आपका मनोरंजन तो होता है; किन्तु आप पर अच्छे संस्कार नहीं होते !
संस्कार होना महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि इससे जीवन आदर्श बनता है।
प्रस्तुत ग्रन्थमें दी हुई कथाओंसे आपका न केवल मनोरंजन होगा, अपितु सुसंस्कारित जीवन जीनेकी कला भी जानोगे।
साथ ही आपको इन कथाओंसे- सदाचार, साधना, धर्मप्रेेम, संस्कृतिप्रेेम, राष्ट्रभक्ति आदि विषयोंमें उत्तम ज्ञान भी मिलेगा ।

Index and/or Sample Pages

In stock